MÉNIÈRE’S DISEASE Hindi2018-07-20T11:53:50+00:00

Ménière’s  Disease

यह एक समस्या है जो आंतरिक कान को प्रभावित करती है। यह Tinnitus, बहरापन इत्यादि का कारण बन सकता है, यहां पता लगाएं कि इसके कारण क्या हैं, इसके लक्षण और इलाज।

Read in English

VNG (videonystagmography), ECochG (Electrocochleography) और Audiometry जैसे टेस्ट सटीक निदान देने की आवश्यकता है। सर्वश्रेष्ठ चिकित्सा एवं ध्यान और देखभाल पाने के लिए हमारे विशेषज्ञ डॉक्टर से परामर्श लें।

बुक अपॉइंटमेंट

Menieres disease एक आंतरिक कान का विकार है जिसे American Academy of  Otolaryngology ने Idiopathic syndrome of endolymphatic hydrops के  नाम से परिभाषित किया है।

सादी भाषा में इसे समझें तो  Menieres की बिमारी प्रभावित कान में अत्यधिक दबाव पड़ने से उत्पन्न होती है, जिससे चक्कर आना सुनाई में दिक्कत होना कानों में सीटी या शोर जैसी आवाजों का आना जैसे लक्षण उत्पन्न होते हैं। Menieres  किसी भी उम्र मे उत्पन्न हो सकती है लेकिन 30-60 की उम्र के लोगो मे इसके विकसित होने की संभावना अधिक होती है –

Menieres के संकेत एवं लक्षण

  1. Vertigo Episode Menieres -इस से पीडित व्यक्ति को सर तेजी से घूमने जैसा या चक्कर आना महसूस करता है  यह सनसनी अचानक शुरू हो के 20 मिनट से कई घंटो तक चल सकती है।  में उल्टी एंव मन घबराना जैसे लक्षण उत्पन्न होते है।
  1. सुनने की क्षमता मे हानि– Menieres के शुरूआती चरण मे अस्थायी तौर पर साफ नही सुनाई देता परंतु इलाज न करवाने पर यह स्थायी रूप में परिवर्तित हो सकती है।
  1.  कान गुंजना (Tinnitus) – Menieres मे कान मे गुंजन, गडगडाहट, सीटी बजने जैसा महसूस होता है। बिमारी की प्रगति के साथ यह स्थायी हो जाता है।
  1.  कान मे भारीपन का महसूस करना – डमदपमतमे से पीडित व्यक्ति को चक्कर शुरू होने से पहले ंिसर के किनारे एक तरफ दबाव महसूस होता है जो कि लक्षण सुधरने पर पूरी तरह से गायब हो जाते है। vestigo Episode अक्सर दिनों, सप्ताह या वर्षो के अंतराल के बीच दिख सकते है।

Menieres  की जांचेः-

Menieres की बिमारी का पता लगाने के लिए प्रभावित व्यक्ति को अमतजपहव के दो  Episode 20 मिनट या उससे अधिक के अंतराल के आए होने चाहिए, परन्तु यह अवधि 24 घंटेे से अधिक न हो। एक प्रशिक्षित चिकित्सक सुनवाई के स्तर की जाचं  एवं कानो मे भारीपन की जांच भी करता है।

Menieres की पुष्टि के  लिए VNG, ECochG एव Audiometry की मदद ली जाती है।

उपचारः-

Menieres के उपचार मुख्य रूप से निम्नलिखित तरीको पर केन्द्रित होता है।

  1. खानपान मे बदलाव:- रोगी को कम नमक एंव कैफीन लेने की सलाह दी जाती है।
  1. दवांएः- Meclizine/Prochlorperazine Or Diazepam चक्कर से छुटकारा पाने मे मदद करती है।
  1. Anti nauseatic दवांए जी मिचलाने एवं उल्टी आने केा नियंत्रित करती है।
  1. Diuretics आंतरिक कान मे दबाव को कम करती है।
  1. Betahistine जैसी दवाओं की सही, उचित खुराक लक्षणो को नियंत्रित करने मे सक्षम होती है।

बिना शल्य चिकित्सा के इलाजः-

  1. Vestibular Rehabilitation Therapy

चक्कर के कारण उत्पन्न असुविधा को रोगी के  अनुसार Rehabilitation उपचार के साथ सहायता प्रदान की जाती है।

  1. कान के उपकरणः-

सुनने की क्षमता को सुधारने के लिए कान की मशीन का उपयोग किया जाता है।

  1. Meniett device:-

के  उपयोग से कानों मे स्पंदन पैदा कर कान  के तरल पदार्थ से दबाव को कम करके कान के centre  मे सुनने की क्षमता को बढाता है।इस उपकरण को घर मे 5 मिनट तक दिन मे तीन बार तक उपयोग कर सकते है। अगर यह तरीके प्रभावी नही होते तो इलाज के लिये डाक्टर दूसरे इलाज लेने की सलाह देता है।

Middle ear injections

चिकित्सक दवा को मध्य कान मे पेश करता है जो रिस कर आंतरिक कान में पहुँच जाती है, और चक्कर के लक्षणों से राहत प्रदान करता है। Steroid  एवं Gentamicin  का व्यापक रूप से चिकित्सको द्वारा उपयोग किया जाता है। Gentamicin स endolymphका उत्पादन कम होता है, जिससे आंतरिक कान मे दबाव में कमी आती है।Dexamethasone and Methylprednisolone भी  vertigo को नियंत्रित करने मे प्रभावी होते है। यह प्रकिया भी  local anaesthesia के साथ की जाती है।

Surgery

Menieres के  इलाज का अंतिम विकल्प शल्य चिकित्सा होता है। जिसे निम्न तरीकों से की जाती है।

Endolymphatic sac Procedure

Vestibular Nerve section-

इस क्रिया मे चिकित्सक Vestibular Nerve  को काटता है जो संतुलन के लिए आवष्यक होता है। इसमे प्रभावित कान की सुनने की क्षमता को बचाने का प्रयास किया जाता है। इस प्रकिया मे रोगी को रात भर अस्तपताल मे भर्ती होने की आवश्यकता होती है।

Labyrinthectomy

चिकित्सक कान के अन्दर के उस खंड को हटाता है जो संतुलन और सुनवाई की क्षमता को नियंत्रित करता है।

बुक अपॉइंटमेंट

VNG (videonystagmography), ECochG (Electrocochleography) और Audiometry जैसे टेस्ट सटीक निदान देने की आवश्यकता है। सर्वश्रेष्ठ चिकित्सा एवं ध्यान और देखभाल पाने के लिए हमारे विशेषज्ञ डॉक्टर से परामर्श लें।